PMINDIA

News Updates

PM’s address during his interaction with the beneficiaries of Digital India

पिछले कुछ दिनों से मुझे सरकार की विभिन्‍न योजनाओं के देश भर के जो लाभार्थी हैं। उन सबसे रूबरू होने का, बातचीत करने का उनको सुनने का अवसर मिला और मैं कह सकता हूं कि मेरे लिए एक अद्भुत अनुभव है। और मैं हमेशा इस हिम्‍मत का आग्रही हूं। कि फाइलों से परे लाइफ भी होती है। और लाइफ में जो बदलाव आया है। जब उसको सीधा लोगों से सुना। उनके अनुभवों को जाना तो मन को एक बहुत ही संतोष मिलता है। और काम करने की एक नई ऊर्जा भी मुझे आप लोगों से मिली है। आज डिजिटल इंडिया की कुछ योजना के लाभार्थियों से बातचीत करने का अवसर मिला है।

मुझे बताया गया है कि आज के इस कार्यक्रम में देश भर के गरीब 3 लाख Common Service Centres इनके साथ जुड़ने का मुझे अवसर मिला है। इन CSC Common Service Centre को संचालित करने वाले VLEs और जो नागरिक इनसे अलग-अलग तरह की सेवाएं ले रहे हैं, सर्विस ले रहे हैं। वे सब आज यहां मौजूद हैं। इसके अलावा देश भर के NIC centre के माध्‍यम से Digital India के लाभार्थी वहां भी इकट्ठा हुए हैं। 1600 से अधिक संस्‍थाएं जो NKN National Knowledge Network उनसे जुड़े हैं। उनके विद्यार्थी, Researchers, Scientist, Professors ये सब हमारे साथ हैं। देश भर में सरकार की योजना से जो BPO स्‍थापित हुए हैं। उनके युवा अपने-अपने BPO centre से भी इस कार्यक्रम में हमारे साथ है। इतना ही नहीं Mobile, Manufacturing Units में काम करने वाले युवा भी हमें अपनी-अपनी Units भी दिखाएगें। और वो कुछ बात हमसे करेंगे।

देश भर में लाखों की संख्‍या में Mygov volunteers भी जुड़़े हैं। मैं मानता हूं ये अनोखा संवाद है जहां कम से कम 50 लाख से ज्‍यादा लोग एक ही विषय पर आज हम सब मिलकर के बाते करने वाले हैं। हर किसी का अनुभव सुनने का, उनसे बातचीत करने का एक ही अद्भुत अवसर है और जब Digital India launch हुआ था तो एक संकल्‍प था कि देश के सामान्‍य व्‍यक्ति को, गरीब को, किसानों को, युवाओं को, गांवों को डिजिटल की दुनिया से जोड़ रहा है। उन्‍हें Empower कर रहा है। इसी एक संकल्‍प को लेकर पिछले चार साल में Digital Empowerment के हर एक पहलू पर काम किया है चाहे गांवों को, Fibre Optics से जोड़ना हो। करोड़ो लोगों को डिजिटली साक्षर करना हो, सरकारी सेवाओं को मोबाइल के माध्‍यम से हर एक के हाथ में पहुंचाना हो, Electronic Manufacturing को देश में विकसित करना हो Strat up or Innovation को बढ़ावा देना हो, दूर-दराज के क्षेत्रों में BPO’s खोलने को अभियान चलाना हो। ऐसे अनेक प्रकल्‍प आज पेंशन प्राप्‍त करने वाले हमारे बुजुर्गों को कोसो दूर खुद जाकर अपने जीवन का प्रमाण नहीं देना पड़ता बल्कि वो अपने गांव में ही Common Service Centres CSC centre से पहुंच करके बड़ी आसानी से काम कर सकते हैं। देश का किसान मौसम का हाल जानना हो, फसल के संबंध में जानकारी लेनी हो, Soil आदि के बारे में जानकारी लेनी हो। वो बड़े आराम से आजकल प्राप्‍त कर लेता है। लेकिन साथ ही साथ एक Digital Market ENAM के माध्‍यम से अपने उत्‍पाद भी देश भर के बाजारों में वो बेच सकता है। अपने मोबाइल फोन के माध्‍यम से या CSC के सेंटर पर जाकर।

आज गांव में पढ़ने वाला विद्यार्थी सिर्फ अपने स्‍कूल-कॉलेज में उपलब्‍ध किताबों तक सीमित नहीं है। वो इंटरनेट का इस्‍तेमाल करके digital library के जरिये लाखों किताबों का access कर रहा है। वो अब scholarship की धनराशि के लिए स्‍कूल-कॉलेज के प्‍लानिंग सिस्‍टम पर निर्भर नहीं है। उसकी scholarship अब सीधा उसके बैंक खाते में आ जाती है। ये सब संभव हुआ है टेक्‍नोलॉजी के माध्‍यम से संचार क्रांति के द्वारा। आज से कुछ वर्ष पहले तक महानगरों से दूर छोटे शहरों, कस्‍बों और गांवों में रहने वालों के लिए इस बात की कल्‍पना भी मुश्किल थी कि रेलवे टिकट बिना स्‍टेशन पर गए हुए, बिना लाइन में लगे हुए रेलवे टिकट बुक हो सकती है। या रसोई गैस बिना लाइन में घंटों बिताए सीधा घर तक पहुंच सकती है। टैक्‍स, बिजली, पानी का बिल बिना किसी सरकारी दफ्तर का चक्‍कर लगाए ही जमा हो सकता है। लेकिन आज ये सब संभव है आपके जीवन से जुड़े हुए तमाम जरूरी काम अब बस अंगुली भर की दूरी पर है। और ऐसा नहीं है कि कुछ चंद लोगों को ही ये उपलब्‍ध है, हर एक को उपलब्‍ध है। देश के हर नागरिक को अधिक से अधिक सुविधाएं अपने घर के पास ही मिल सके। इसके लिए देश भर के Common Service Centres CSC network को मजबूत किया जा रहा है।

अब तक देश में करीब 3 लाख Common Service Centres खोले जा चुके हैं। आज Digital Service Deliver Centres का ये विशाल नेटवर्क भारत के 1 लाख 83 हजार ग्राम पंचायतों में फैला हुआ है। आज लाखों की संख्‍या में युवा Village Level Entrepreneurs (VLE) के रूप में काम कर रहा है। और खुशी की बात है कि इनमें 52 हजार महिलाएं उद्यमी काम कर रही हैं।

इन केंद्रों के माध्‍यम से 10 लाख से अधिक लोगों को रोजगार मिला है। समग्र रूप से देखें तो ये केंद्र न सिर्फ Empowerment का माध्‍यम बने हैं बल्कि इससे Education, Entrepreneurship or Employment को भी बढ़ावा मिला है।

मेरे हिन्‍दुस्‍तान में जो बदलाव आ रहा है, जो बदलाव आप लोग ला रहे हैं और अपनी अंगुली की ताकत से ला रहे हैं, ये प्रगति, ये विश्‍वास, ये विकास, Reform Perform Transform इसको साकार करने वाला है। फिर एक बार आप सब को बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूँ। बहुत-बहुत धन्‍यवाद देता हूँ।

नमस्‍कार।