पीएमइंडिया

न्यूज अपडेट्स

“टीबी उन्मूलन” शिखर सम्मेलन के उद्घाटन सत्र में प्रधानमंत्री का संबोधन

“टीबी उन्मूलन” शिखर सम्मेलन के उद्घाटन सत्र में प्रधानमंत्री का संबोधन

“टीबी उन्मूलन” शिखर सम्मेलन के उद्घाटन सत्र में प्रधानमंत्री का संबोधन

भारत के स्वास्थ्य मंत्री,   

स्वास्थ्य राज्यमंत्री,

नाइजीरिया के स्वास्थ्य मंत्री,

इंडोनेशिया के स्वास्थ्य मंत्री,

विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक,

मंच पर उपस्थित अन्य महानुभाव,

विश्व भर से आए अतिथिगण,

देवियों और सज्जनों,

‘End TB SUMMIT’ में सम्मिलित होने के लिए आप सभी भारत आए, इसके लिए मैं आपका बहुत-बहुत आभारी हूं और हृदय से आप सभी का स्वागत करता हूं।

साथियों,

ट्यूबरकलोसिस- TB को अब से करीब 25 वर्ष पूर्व विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा इमरजेंसी घोषित किया गया था। तब से लेकर अलग-अलग देशों में TB की रोकथाम के लिए अलग-अलग तरह से प्रयास किए गए हैं। निश्चित तौर पर हम सभी ने काफी लंबा रास्ता तय किया है, TB की रोकथाम के लिए व्यापक स्तर पर काम किया है, लेकिन एक Ground Reality ये भी है कि TB को रोकने में हम अब भी पूरी तरह सफल नहीं हो पाए हैं।

साथियों,

मेरा मानना है कि जब कोई कार्य दस साल बीस साल से किया जा रहा है, और उसके नतीजे वैसे नहीं आते हैं जैसी की अपेक्षा की गई थी, तो हमें अपनी अप्रोच बदलकर देखना चाहिए। जिस तरह से कार्य किया जा रहा है, जिस तरह की योजनाओं को लागू किया गया है, जमीन पर जिन तरह से काम हो रहा है, उसे बहुत व्यापक तरीके से analyze करने की आवश्यकता होती है। जब आप गंभीरता से पुरानी प्रक्रियाओं को analyze करते हैं, तभी नई अप्रोच का रास्ता खुलता है।

मुझे खुशी है कि इसी सोच के साथ भारत की Health और Family Welfare Ministry, WHO South East Asia Region और Stop TB Partnership मिलकर एशिया, अफ्रीका और दुनिया के अनेक देशों के प्रतिनिधियों को आज एक मंच पर लाए हैं। इसी साल सितंबर में United Nations में General Assembly की महत्वपूर्ण बैठक भी होने जा रही है। इस बैठक से पहले की तैयारी के तौर पर आज का ये आयोजन, पूरी मानवता के लिए बहुत अहम है। मुझे उम्मीद है कि “Delhi End TB Summit” TB को धरती से हमेशा के लिए खत्म करने की दिशा में एक landmark event के तौर पर जाना जाएगा।

साथियों,

अभी हाल ही में इसी दिशा में भारत की एक और पहल को एक वर्ष पूरे हुए हैं।  पिछले वर्ष “Delhi Call for Action to end TB in the WHO South East Asia Region by 2030” के प्रस्ताव को सर्व सहमति से स्वीकारा गया था। इस प्रस्ताव के बाद शुरु हुई प्रक्रियाएं South East Asia region में TB को समाप्त करने की दिशा में बहुत सकारात्मक पहल के तौर पर सामने आ रही हैं। TB जिस तरह लोगों के जीवन पर, समाज के स्वास्थ्य पर, देश की अर्थव्यवस्था पर और देश के भविष्य पर असर डालती है, उसे देखते हुए अब तय समय के भीतर TB से मुक्ति पाना बहुत आवश्यक हो गया है। भारत में तो वैसे भी किसी भी communicable disease से TB का प्रभाव सबसे ज्यादा है और इसका सबसे ज्यादा शिकार भी गरीब होते हैं। इसलिए TB खत्म करने के लिए उठाया गया हर कदम, सीधे-सीधे गरीबों के जीवन से जुड़ा हुआ है।

साथियों,

दुनिया भर में TB को खत्म करने के लिए वर्ष 2030 तक का समय तय किया गया है।

लेकिन आज मैं इस मंच से ये घोषणा कर रहा हूं कि भारत ने वर्ष 2030 से पाँच साल और पहले, यानि 2025 तक TB को खत्म करने का लक्ष्य अपने लिए तय किया है। हमारी सरकार एक नई अप्रोच, नई रणनीति के साथ भारत से TB समाप्त करने के मिशन में जुट गई है। भारत सरकार द्वारा जो नए strategic initiatives शुरू किए गए हैं, उसकी एक झलक आपने अभी यहां प्रस्तुत किए गए presentation में भी देखी है। TB खत्म करने के लिए जितने भी stake-holders उत्तरदायी हैं, उन्हें हमारी सरकार एकजुट होकर कार्य करने के लिए प्रेरित कर रही है।

भाइयों और बहनों,

भारत में TB को 2025 तक खत्म करने के लिए जो National Strategic Plan बनाया गया था, वो अब पूरी तरह operational है। सरकार द्वारा TB से जुड़ी योजनाओं पर बजट लगातार बढ़ाया जा रहा है। इस वर्ष के बजट में ही हमारी सरकार ने इस बीमारी के मरीजों को पौष्टिक सहायता देने के लिए अतिरिक्त 100 मिलियन डॉलर प्रतिवर्ष खर्च करने का प्रावधान किया है। मरीजों को nutritional support खरीदने में दिक्कत न हो, इसके लिए उनके बैंक अकाउंट में सरकार की तरफ से सीधे आर्थिक सहायता ट्रांसफर की जा रही है। TB के मरीजों की सही पहचान हो, Active Cases के बारे में समय पर पता चले, जो दवाइयां दी जा रही हैं, वो प्रभावी हैं भी या नहीं, drug-resistant TB तो नहीं है, इन विषयों को ध्यान में रखते हुए सरकार द्वारा व्यापक स्तर पर कार्य किया जा रहा है। ‘Treat every TB patient best at the very first opportunity’ के सिद्धांत के साथ सरकार इन योजनाओं में private sector को भी engage कर रही है। इसके अलावा हमारा जोर टेक्नोलॉजी औऱ नए Innovations के ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल पर भी है। Internet-of-Things को आधार बनाते हुए state-of-the-art, Information Communication Technology सिस्टम और उससे जुड़े प्लेटफॉर्म डवलप किए जा रहे हैं। प्रोग्राम के management के लिए, disease surveillance के लिए, treatment monitoring के mobile-health solutions देने के लिए आधुनिक तकनीक का उपयोग किया जा रहा है।

हमने Digital X-Ray reading के लिए स्वदेशी molecular diagnostic machine भी विकसित की है। Artificial Intelligence आधारित इस मशीन को True NAAT नाम दिया गया है। ये मशीन Make in India की मुहिम को भी बल देती है।TB से जुड़े विभिन्न विषयों, जैसे वैक्सीन, बेहतर दवाइयां, diagnostics and implementation इन सभी को और मजबूत करने के लिए India TB Research Consortium की भी स्थापना की गई है।

TB को भारत से मिटाने के लिए राज्य सरकारों की भी बड़ी भूमिका है। Cooperative Federalism की भावना को मजबूत करते हुए, इस मिशन में राज्य सरकारों को अपने साथ लेकर चलने के लिए मैंने खुद देश के सभी मुख्यमंत्रियों को चिट्ठी लिखकर इस अभियान से जुड़ने का आग्रह किया है।यहां इस आयोजन में राज्यों की तरफ से आए मंत्रिगण और संबंधित पदाधिकारियों का इतनी बड़ी संख्या में उपस्थित होना, इस बात का संकेत है कि कैसे हम Team India की तरह अपने देश को TB से मुक्ति दिलाने के लिए दृढ़ संकल्पित हैं।

साथियों,

TB से मुक्ति का ये मिशन भले ही भारत में हो या किसी भी देश में, frontline TB physicians और workers की बड़ी भूमिका होती है। इसके साथ ही हर वो व्यक्ति जो TB से ग्रसित होने के बाद रेग्यूलर दवा लेता है, अपना इलाज कराता है और इस बीमारी को हराकर ही दम लेता है, वो भी प्रशंसा का पात्र है। TB का मरीज, अपनी इच्छा-शक्ति से जिस तरह इस बीमारी पर विजय प्राप्त करता है, वो दूसरों के लिए भी प्रेरणा का काम करता है। मेरा दृढ़ विश्वास है कि मरीजों की इच्छा-शक्ति और अपने passionate TB workers के सहयोग से भारत के साथ ही दुनिया का हर देश अपने लक्ष्य को प्राप्त करने में सफल होगा। यहां हेल्थ सेक्टर के जो लोग, भारत से हैं, उन्हें मैं विशेष तौर पर अपना best effort करने के लिए कहूंगा क्योंकि आपके लिए TB Free India का लक्ष्य 2030 नहीं, 2025 है। सही रणनीति के साथ, सही तरीके से Ground पर हम नीतियों को लागू करते चलेंगे, तो इस लक्ष्य को प्राप्त करने से हमें कोई रोक नहीं पाएगा।

साथियों,

ज्यादा से ज्यादा लोगों को जोड़कर, स्थानीय स्तर पर लोगों को जागरूक करके, TB की जांच के तरीकों, TB के इलाज, यानि multi-sectoral engagement के माध्यम से हम अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं। इसके लिए सरकार और प्रशासन के हर स्तर, पंचायत, म्यूनिसिपैलिटी, जिला प्रशासन, राज्य सरकार, सभी को अपने-अपने स्तर पर ‘TB Free गांव, पंचायत, जिला या राज्य बनाने के लिए अपनी पूरी शक्ति लगा देनी होगी।

साथियों,

भारत को 2025 तक TB से मुक्त करने का लक्ष्य कुछ लोगों को मुश्किल भले लग रहा हो, लेकिन ये असंभव नहीं है। पिछले चार साल से जिस तरह हमारी सरकार नई अप्रोच के साथ काम कर रही है, उससे इस लक्ष्य को प्राप्त किया जा सकता है।

भाइयों और बहनों,

हम समस्याओं को, चुनौतियों को टुकड़ों-टुकड़ों में नहीं देखते। जब एक Holistic तरीके से इन चुनौतियों से निपटने का प्रयास किया जाता है तो उसके नतीजे भी मिलते हैं। मैं आलोचना में नहीं जाना चाहता लेकिन आपको अपने यहां के immunization कार्यक्रम के बारे में बताना चाहता हूं। भारत में immunization 30-35 साल से चल रहा है। बावजूद इसके 2014 तक हम संपूर्ण कवरेज का लक्ष्य प्राप्त नहीं कर पाए थे। जिस रफ्तार से immunization का दायरा बढ़ रहा था, अगर वैसे ही चलता रहता तो भारत को संपूर्ण कवरेज तक पहुंचने में 40 साल और लग जाते।

साथियों,

पहले हमारा immunization coverage सिर्फ एक प्रतिशत की रफ्तार से बढ़ रहा था। सिर्फ तीन-साढ़े तीन साल में अब ये 6 प्रतिशत प्रतिवर्ष से ज्यादा हो गया है और अगले एक वर्ष में हम 90 प्रतिशत immunization coverage का लक्ष्य हासिल करने जा रहे हैं। दूसरे देशों से आए हमारे अतिथि सोच रहे होंगे कि आखिर ये कैसे संभव हुआ ?

साथियों,

मैं जब नई अप्रोच की बात करता हूं, तो उसके पीछे यही वजह है। हमने पहले देश के उन जिलों, उन क्षेत्रों को चिह्नित किया जो बरसों से चल रहे immunization coverage से बाहर थे या जहां टीकाकरण के नाम पर सिर्फ खानापूरी हो रही थी। इन क्षेत्रों को Target करके हमारी सरकार ने मिशन इंद्रधनुष शुरू किया, वैक्सीनेशन के लिए नई दवाइयां जोड़ीं और ग्राउंड लेवल पर जाकर काम करना शुरू किया। आज इसका परिणाम हम सभी देख रहे हैं।

साथियों,

ऐसी ही नई अप्रोच के साथ हमारी सरकार स्वच्छ भारत मिशन के लिए भी काम कर रही है। इसी का नतीजा है कि 2014 में देश के ग्रामीण इलाकों में स्वच्छता का जो दायरा लगभग 40 प्रतिशत था अब वो बढ़कर लगभग 80 प्रतिशत तक पहुंच गया है। इतने कम समय में हमने दोगुनी कवरेज हासिल की है। हम बहुत तेजी के साथ अक्तूबर 2019 में open defecation free India की तरफ बढ़ रहे हैं। मैं ये दो उदाहरण आज इस अंतरराष्ट्रीय मंच पर इसलिए दे रहा हूं क्योंकि मैं हर देश के बीच इस बात पर फिर जोर देना चाहता हूं कि बड़े और मुश्किल लक्ष्य हासिल किए जा सकते हैं। हां, उसके लिए पहली आवश्यकता है कि कोई लक्ष्य तय तो किया जाए। जब लक्ष्य ही तय नहीं होगा, तो फिर न रफ्तार रहेगी, न दिशा रहेगी और न ही आप मंजिल तक पहुंच पाएंगे।

साथियों,

इसी हौसले के साथ, इसी तरह तय लक्ष्य और तय रणनीति पर चलते हुए भारत भी 2025 तक TB मुक्त होने के अपने संकल्प को पूरा करेगा, ऐसा मेरा दृढ़ विश्वास है। साथियों, आप सभी Health Sector के एक्सपर्ट्स हैं। ये भी भली-भांति समझते हैं कि कोई भी बीमारी को खत्म करने के लिए multi-sectoral interventions की आवश्यकता होती है। TB के विषय में मैंने दवाइयों, इलाज की मॉनीटरिंग, रीसर्च, पौष्टिक आहार के लिए आर्थिक सहायता जैसे अनेक interventions के बारे में आपको बताया। लेकिन इसके साथ ही भारत में कुछ और भी चीजें हो रही हैं जो TB के प्रभाव को, इस बीमारी को कम करने में बहुत सहायक हैं। इनमें से एक स्वच्छ भारत मिशन है, जिसके बारे भी में मैंने आपको विस्तार से बताया है। इसी तरह भारत सरकार की उज्ज्वला योजना भी TB कम करने में बड़ी भूमिका निभा रही है। इस योजना के तहत सरकार 8 करोड़ गरीब महिलाओं को मुफ्त गैस कनेक्शन देने का काम कर रही है। घर में LPG आने के बाद महिलाएं, उनके बच्चे, उनका परिवार लकड़ी के धुएं से मुक्त हो रहा है और साथ ही साथ खुद पर TB का खतरा भी कम कर रहा है। चार दिन पहले अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर हमारी सरकार ने राष्ट्रीय स्तर पर पोषण मिशन भी शुरू किया है। इस मिशन का मकसद भी सिर्फ लोगों को पौष्टिक भोजन देना नहीं है। हमारा लक्ष्य वो Eco-system तैयार करना है जिसमें कुपोषण की संभावना कम से कम हो।

साथियों,

इस साल के बजट में भारत ने दुनिया की सबसे बड़ी हेल्थ एश्योरेंस स्कीम भी शुरू करने का ऐलान किया है। ये योजना है आयुष्मान भारत यानि “Long Live India”. इसके माध्यम से हमारी सरकार देश में primary, secondary and tertiary care-system को और मजबूत करने का काम करेगी। सरकार द्वारा देशभर में डेढ़ लाख Health and Wellness Centres की स्थापना की जा रही है। ये वेलनेस सेंटर primary health care का काम करेंगे जहां पर diagnostic services भी होंगी और लोगों को सस्ती दवा भी दी जाएगी। इसके अलावा 10 करोड़ गरीब परिवारों को गंभीर बीमारियों के इलाज के लिए 5 लाख रुपए प्रतिवर्ष का हेल्थ एश्योरेंस भी दिया जाएगा।

भाइयों और बहनों,

हमारा भारतीय दर्शन और भारतीय पुरातन विज्ञान स्वास्थ्य को लेकर हमेशा से बहुत स्पष्ट रहा है। हमारे यहां कहा गया है-

सर्वे भवन्तु सुखिनः,

सर्वे सन्तु निरामयाः

सर्वे भद्राणि पश्यन्तु, मा कश्चिद्दुःखभाग्भवेत् ।

यानि

May All become Happy, May All be Free from Illness.

May All See what is Auspicious, May no one Suffer.

इसी दर्शन की वजह से भारत भूमि पर आयुर्वेद और योग जैसी वैज्ञानिक पद्धतियों का जन्म हुआ। सैकड़ों वर्षों से ये भारतीय जनमानस में रचा-बसा हुआ है। Curative, Promotive और Preventive हेल्थ केयर के इन तरीकों को अब अंतरराष्ट्रीय मान्यता मिल रही है। हमारी सरकार भी पुरातन भारतीय पद्धियों और आधुनिक चिकित्सा पद्धतियों को साथ लेकर चल रही है। मैं स्वास्थ्य मंत्रालय से आज ये भी आग्रह करूंगा कि TB के निदान में आयुर्वेद के योगदान को लेकर रीसर्च का दायरा बढ़ाया जाए और उसके जो भी नतीजे आएं, वो हमारे साथी देशों से भी साझा किया जाए। सबका साथ-सबका विकास का हमारा मंत्र, क्षेत्रीय सीमाओं में बंधा हुआ नहीं है। TB Free World बनाने के लिए भारत हर देश के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलने के लिए सहर्ष तैयार है। TB से लड़ाई में जिन भी देशों को first line drugs, commodities और technical support की जरूरत होगी, हम पूरी तत्परता के साथ उस देश का साथ देंगे।

साथियों,

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने कहा था कि कोई भी योजना सफल है या असफल, ये इस बात पर निर्भर करता है कि उससे last needy person को कितना लाभ हो रहा है। हमारी सरकार इस बात के लिए प्रतिबद्ध है कि हमारी योजनाएं, उस last needy person तक पहुंचें और उसकी Ease of Living बढ़ाएं।

आज इस अवसर पर मैं हर व्यक्ति, हर सरकार, हर संस्था, सिविल सोसायटी से जुड़े हर प्रतिनिधि से भी ये संकल्प लेने का आग्रह करता हूं कि वो TB के उस last person तक पहुंचने में, TB Free India बनाने में सक्रिय भूमिका निभाए।

TB Free India का संकल्प, TB Free World के संकल्प को भी पूरा करने में सहयोग करेगा।

इस बड़े लक्ष्य के लिए, बहुत-बहुत शुभकामनाओं के साथ मैं अपनी बात समाप्त करता हूं। आप सभी का इस आयोजन में आने के लिए एक बार फिर बहुत-बहुत आभार। धन्यवाद