पीएमइंडिया

न्यूज अपडेट्स

प्रधानमंत्री की स्वीडन यात्रा के दौरान प्रेस वक्तव्य

प्रधानमंत्री की स्वीडन यात्रा के दौरान प्रेस वक्तव्य

प्रधानमंत्री की स्वीडन यात्रा के दौरान प्रेस वक्तव्य

प्रधानमंत्री की स्वीडन यात्रा के दौरान प्रेस वक्तव्य

Your Excellency, Prime Minister स्टेफ़ान लवैन,

Media के मित्रों,

यह मेरी स्वीडन की पहली यात्रा है। भारत के प्रधानमंत्री की स्वीडन यात्रा लगभग तीन दशकों के अंतराल के बाद हो रही है। स्वीडन में हमारे गर्मजोशी भरे स्वागत और सम्मान के लिए मैं प्रधानमंत्री लवैन का और स्वीडन की सरकार का ह्रदय पूर्वक आभार प्रकट करता हूँ। मेरी इस यात्रा में प्रधानमंत्री लवैन ने अन्य नोर्डिक देशों के साथ भारत के Summit का भी आयोजन किया है। इसके लिए भी मैं ह्रदय पूर्वक आभार प्रकट करता हूँ।
भारत के Make in India mission में स्वीडन शुरू से ही मजबूत भागीदार रहा है। 2016 में मुंबई में हमारे Make in India कार्यक्रम में प्रधानमंत्री लवैन स्वयं बहुत बड़े Business Delegation के साथ शामिल हुए थे। भारत से बाहर Make in India का सबसे प्रमुख कार्यक्रम भी पिछले वर्ष अक्टूबर में स्वीडन में आयोजित किया गया था। हमारे लिए ये बहुत हर्ष और गर्व का विषय है की स्वयं प्रधान मंत्री श्री लवैन इसमें शामिल हुए थे। मैं मानता हूँ कि आज की हमारी बातचीत में सबसे प्रमुख विषय यही थी कि भारत के विकास से बन रहे अवसरों में स्वीडन किस प्रकार भारत के साथ win-win partnership कर सकता है। इसके परिणामस्वरूप आज हमने एकInnovation Partnership और Joint Action Plan पर सहमति की है।

Innovation, Investment, Start-ups, Manufacturing आदि हमारी साझेदारी के प्रमुख आयाम हैं। इनके साथ हम renewable energy, urban transport, waste management जैसे अनेक विषयों पर भी ध्यान दे रहे हैं, जो भारत के लोगों की quality of life से जुड़े विषय हैं। Tradeऔर Investment से जुड़े विषयों पर आज प्रधानमंत्री लवैन और मैं स्वीडन के प्रमुख CEOs के साथ मिल कर के भी चर्चा करेंगे।

हमारे द्विपक्षीय संबंधों का एक और मुख्य स्तंभ है हमारा रक्षा और सुरक्षा सहयोग। रक्षा क्षेत्र में स्वीडन बहुत लंबे समय से भारत का साझेदार रहा है। और मुझे विश्वास है कि भविष्य में भी इस क्षेत्र में, विशेष रूप से रक्षा उत्पादन में, हमारे सहयोग के लिए कई नए अवसर पैदा होने वाले हैं ।

हमने अपने सुरक्षा सहयोग, विशेष रूप से cyber security सहयोग, उसे और मजबूत करने का निर्णय लिया है। एक और बात जिस पर हम सहमत हैं, वह है कि हमारे संबंधों का महत्त्व क्षेत्रीय और वैश्विक पटल पर भी हो। अंतर्राष्ट्रीय मंच पर हमारा बहुत क़रीबी सहयोग है, और आगे भी जारी रहेगा।

आज हमने Europe और Asia में हो रहे developments के बारे में विस्तार से विचारों का आदान प्रदान किया। अंत में मैं एक बार फ़िर प्रधानमंत्री लवैन का ह्रदय से आभार प्रकट करना चाहूँगा।

आप सबका बहुत-बहुत धन्यवाद।