पीएमइंडिया

न्यूज अपडेट्स

प्रधानमंत्री ने गुजरात के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया, अहमदाबाद हवाई अड्डे पर एक उच्चस्तरीय बैठक में बाढ़ राहत कार्यों की समीक्षा की

प्रधानमंत्री ने गुजरात के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया, अहमदाबाद हवाई अड्डे पर एक उच्चस्तरीय बैठक में बाढ़ राहत कार्यों की समीक्षा की

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आज गुजरात के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया।

प्रधानमंत्री ने अहमदाबाद हवाई अड्डे पर एक उच्चस्तरीय बैठक में बाढ़ राहत कार्यों की समीक्षा की। इस बैठक में गुजरात के मुख्यमंत्री श्री विजय रूपाणी, अन्य वरिष्ठ मंत्री और राज्य सरकार, आपदा राहत एजेंसियों एवं पीएमओ के वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल हुए।

प्रधानमंत्री को बाढ़ से हुए नुकसान और चलाए जा रहे राहत कार्यों का विवरण दिया गया।

प्रधानमंत्री ने राहत अभियान में शामिल वायुसेना समेत सभी एजेंसियों को तत्काल राहत एवं बचाव के लिए अपने सर्वोत्तम संभव प्रयास करने का निर्देश दिया। उन्होंने साफ-सफाई, हाईजीन और स्वास्थ्य के महत्व पर बल दिया और कहा कि इन पहलुओं को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जानी चाहिए।

प्रधानमंत्री ने कहा कि फसल बीमा कंपनियों समेत बीमा कंपनियों को जल्द से जल्द संपत्ति, फसलों आदि के नुकसान का व्यवस्थित आकलन करने और दावों के शुरुआती निपटारे के लिए कदम उठाने की सलाह दी जा सकती है, ताकि प्रभावित लोगों को तत्काल राहत प्रदान की जा सके।

प्रधानमंत्री ने पानी की आपूर्ति, बिजली और संचार व्यवस्था तुरंत बहाल करने की भी बात कही।

प्रधानमंत्री ने क्षतिग्रस्त सड़कों की मरम्मत करने, विद्युत ढांचा बहाल करने और स्वास्थ्य संबंधी सहायता के लिए विशेष टीमें गठित करने का सुझाव दिया।

अहमदाबाद एयरपोर्ट पर मीडिया से बात करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि गुजरात को गत सप्ताह में भारी बारिश का सामना करना पड़ा है। उन्होंने कहा कि कल से दस और हेलीकॉप्टर बचाव कार्यों में जुट जाएंगे। उन्होंने कहा कि राहत कार्यों की गति बढ़ाई जाएगी। उन्होंने कहा कि ग्रामीण और शहरी दोनों क्षेत्रों में नुकसान की सीमा का मूल्यांकन किया जाएगा तथा इनके लिए छोटे एवं दीर्घकालिक उपाय किए जाएंगे। प्रधानमंत्री ने अभी तक बाढ़ की स्थिति से निपटने के लिए राज्य सरकार, अन्य दूसरी सभी एजेंसियों के प्रयासों की सराहना की।

प्रधानमंत्री ने बाढ़ के कारण जान गंवाने वालों के परिजनों को दो लाख रुपये की अनुग्रह राशि दिए जाने की घोषणा की। गंभीर रूप से घायलों को भी 50 हजार रुपये दिए जाएंगे। उन्होंने एसडीआरएफ के तहत 500 करोड़ रुपये की अतिरिक्त सहायता राशि तत्काल दिए जाने की घोषणा की। उन्होंने विश्वास जताया कि बाढ़ से उत्पन्न हुई चुनौती से गुजरात एवं यहां के लोग मजबूत और सफलतापूर्वक उभर जाएंगे। उन्होंने राज्य की जनता को आश्वस्त किया कि संकट की इस घड़ी में केंद्र सरकार उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ी है।