पीएमइंडिया

न्यूज अपडेट्स

प्रधानमंत्री रामेश्वरम में

प्रधानमंत्री रामेश्वरम में

प्रधानमंत्री रामेश्वरम में

प्रधानमंत्री रामेश्वरम में

डॉ. एपीजे अब्‍दुल कलाम स्‍मारक का उद्घाटन

कलाम संदेश वाहिनी को रवाना किया

रामेश्वरम से अयोध्या के बीच रेलगाड़ी और अन्य विकास परियोजनाओं की शुरूआत की

सार्वजनिक बैठक को संबोधित किया

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आज रामेश्वरम में डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम स्मारक का उद्घाटन किया। श्री मोदी ने डॉ. कलाम की प्रतिमा का अनावरण किया और कलाम स्थल पर पुष्पांजलि अर्पित की। प्रधान मंत्री ने डॉ. कलाम के परिवार के सदस्यों के साथ एक संक्षिप्‍त मुलाकात भी की।

प्रधानमंत्री ने कलाम संदेश वाहिनी नामक एक प्रदर्शनी बस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। यह बस देश के विभिन्न राज्यों में यात्रा करते हुए पूर्व राष्ट्रपति की जयंति यानि 15 अक्टूबर को नई दिल्ली में राष्ट्रपति भवन पहुंचेंगी।

एक विशाल सार्वजनिक बैठक में, प्रधानमंत्री ने ब्लू क्रांति योजना के तहत चुने गये लाँग लाइन ट्रॉलरों के लाभार्थियों को स्वीकृति पत्र वितरित किए।

उन्होंने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से रामेश्वरम से अयोध्या के बीच एक नई एक्‍सप्रेस रेलगाड़ी – श्रद्धा सेतु का शुभारंभ किया। उन्होंने ग्रीन रामेश्वरम परियोजना के सारांश जारी किए और राष्ट्रीय राजमार्ग-87 पर मुकुंदायरार चतिरम और अरिचलमुनई के बीच 9.5 किमी लिंक रोड राष्ट्र को समर्पित करते हुए एक पट्टिका का अनावरण किया।

सभा को संबोधित करते हुए, प्रधानमंत्री ने कहा कि रामेश्वरम पूरे देश के लिए आध्यात्मिकता का प्रतीक रहा है और अब इसे डॉ कलाम के साथ करीबी रूप से जुड़े स्थान के रूप में भी जाना जाता है। उन्होंने कहा कि डॉ. कलाम रामेश्वरम की सादगी, गहराई और शांति का प्रतिनिधित्‍व करते हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि डॉ. कलाम का यह स्मारक विशेष रूप से उनके जीवन और समयकाल का दर्शाता है।

तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. जे. जयललिता को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि वह एक ऐसी नेता हैं जिन्‍हें हम सभी याद करते हैं। उन्होंने कहा कि यह सब देखकर वह बहुत खुश होंगी और अपनी शुभकामनाएं देंगी।

प्रधानमंत्री ने कहा कि बंदरगाहों और रसद के क्षेत्र में परिवर्तन, भारत के विकास में महत्‍वपूर्ण योगदान कर सकता है। उन्होंने कहा कि जहां तक स्वच्छ भारत मिशन का संबंध है, इसे लेकर राज्‍यों के बीच एक स्वस्थ प्रतिस्पर्धा है।

प्रधान मंत्री ने कहा कि डा. कलाम ने भारत के युवाओं को प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि आज के युवा प्रगति की ऊंचाइयों को प्राप्‍त करके रोजगार प्रदाता बनना चाहते हैं।